Earthquake prediction

Think out of the box- Earthquakes can be predicted

Guestbook

Post a Comment

Oops!

Oops, you forgot something.

Oops!

The words you entered did not match the given text. Please try again.

Already a member? Sign In

21 Comments

Reply EileenAlify
2:00 PM on September 29, 2017 
Hello friends!
I am an official representative of private company which deals with all kinds of written work (essay, coursework, dissertation, presentation, report, etc) in short time.
We are ready to offer a free accomplishment of written work hoping for further cooperation and honest feedback about our service.
This offer has limited quantities!!!
Details on our website:
https://top-essay.work
Reply Amit Dave
2:30 AM on March 26, 2014 
Thanks Afshin
keep in touch
regards
Amit
Reply afshin
1:32 AM on March 26, 2014 
hi
i am happy to join in your website
Reply Angela
10:01 AM on December 19, 2012 
You are AMAZING! ;)
Reply Amit Dave
12:09 PM on November 25, 2012 
ERIC BOLSTAD says...
how to become a member


Eric
Am
any body can become member
Amit
Reply Amit Dave
12:08 PM on November 25, 2012 
mittal
this can not be proved and can not be justified
Amit
Reply Amit Dave
12:08 PM on November 25, 2012 
R.M.MITTAL says...
दिल्ली विश्वविद्यालय के तीन वैज्ञानिकों के एक शोध का तर्क रखते हुए हुक्मचंद सांवला ने कहा कि एक कमेले में पशुओं के कटान के समय निकलने वाली चीख-चिल्लाहट से 1040 मेगावाट इपीडब्ल्यू तरंग निकलती है जो भू-मंडल में इंटरैक्ट करती है। यही तरंगें भूमि के अंदर पानी तक पहुंच रेडियम के संपर्क में आकर दस गुणा बढ़ जाती हैं और यही भू-खंड में कंपन का कारण बनती हैं, जिससे भूकंप और सुनामी जैसी विपदाएं आती हैं। आने वाले दिनों में विशव में अधिक भूकंप आ सकते हैं |
Reply ERIC BOLSTAD
10:59 AM on November 12, 2012 
how to become a member
Reply R.M.MITTAL
12:41 PM on September 23, 2012 
दिल्ली विश्वविद्यालय के तीन वैज्ञानिकों के एक शोध का तर्क रखते हुए हुक्मचंद सांवला ने कहा कि एक कमेले में पशुओं के कटान के समय निकलने वाली चीख-चिल्लाहट से 1040 मेगावाट इपीडब्ल्यू तरंग निकलती है जो भू-मंडल में इंटरैक्ट करती है। यही तरंगें भूमि के अंदर पानी तक पहुंच रेडियम के संपर्क में आकर दस गुणा बढ़ जाती हैं और यही भू-खंड में कंपन का कारण बनती हैं, जिससे भूकंप और सुनामी जैसी विपदाएं आती हैं। आने वाले दिनों में विशव में अधिक भूकंप आ सकते हैं |
Reply Amit Dave
1:39 AM on December 2, 2011 
R.M mittal
in fact ,I believe ,the animals will show beheaviour pattern on 7th/8th days in advance.
major quakes gives precurssor before the quake( between 7th and 8th day0
Amit